Breaking News
Home / Uncategorized / षटतिला एकादशी व्रत कथा व माहात्म्य सुनने मात्र मिले चमत्कारी लाभ हर कष्ट दूर

षटतिला एकादशी व्रत कथा व माहात्म्य सुनने मात्र मिले चमत्कारी लाभ हर कष्ट दूर

षटतिला एकादशी 2022 शुक्रवार 28 जनवरी को मनाई जा रही है। इस दिन तिल का प्रयोग और दान करना बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन तिल के साथ भगवान विष्णु की पूजा करना जरूरी है।

नहाते समय तिल को पानी में मिलाकर स्नान करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है और तिल, हवन और तर्पण आदि का दान करना चाहिए। इस दिन तिल का अधिक से अधिक प्रयोग करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।

भगवान विष्णु का प्रिय व्रत एकादशी महीने में दो बार आती है। एक कृष्ण पक्ष में और दूसरा शुक्ल पक्ष में। एक वर्ष में 24 एकादशी होती हैं और जिस वर्ष अधिकमा होता है

उस वर्ष में उनकी संख्या 26 हो जाती है। माघ मास में कृष्ण पक्ष की एकादशी को एकादशी का व्रत किया जाता है, जिसे षटतिला एकादशी कहते हैं। यह एकादशी व्रत सभी पापों का नाश करता है।

 

 

 

About admin

Check Also

भैंस का शिकार करने आए थे कई शेर लेकिन दांव पड़ गया उल्टा, कभी भूल नहीं पाएंगे नजारा- देखें वीडियो

दोस्तों जैसा कि हम सबको पता ही है कि जंगल में रहने वाले जंगली जानवर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.